Category Archives: हास्य

महाशिवरात्रि की भीड़

This gallery contains 11 photos.


हर हर हर हर महादेव! कोटेश्वर महादेव का मन्दिर पौराणिक है और वर्तमान मन्दिर भी पर्याप्त पुराना है। शिवकुटी में गंगा किनारे इस मन्दिर की मान्यता है कि भगवान राम ने यहां कोटि कोटि शिवलिंग बना कर शिवपूजन किया था। … पढना जारी रखे

Gallery | 29 टिप्पणियाँ

किकी का कथन

This gallery contains 2 photos.


सतीश पंचम ने मुझे किकी कहा है – किताबी कीड़ा। किताबें बचपन से चमत्कृत करती रही हैं मुझे। उनकी गन्ध, उनकी बाइण्डिंग, छपाई, फॉण्ट, भाषा, प्रीफेस, फुटनोट, इण्डेक्स, एपेण्डिक्स, पब्लिकेशन का सन, कॉपीराइट का प्रकार/ और अधिकार — सब कुछ। … पढना जारी रखे

Gallery | 62 टिप्पणियाँ

संकर दुकान कब खोलिहैं!


शंकर पासवान का हेयर कटिंग सैलून है मेरे घर के पास नुक्कड़ पर। लम्बे अर्से से दुकान बन्द थी। शंकर का ब्याह था। व्याह के बाद हनीमून। परिणाम यह हुआ कि मेरे बाल झपोली बन गये। एक आध बार तो … पढना जारी रखे

Posted in आस-पास, विविध, शिवकुटी, हास्य, Humor, Shivkuti, Surroundings | 47 टिप्पणियाँ

बोकरिया, नन्दी, बेलपत्र और मधुमेह


अपनी पूअर फोटोग्राफी पर खीझ हुई। बोकरिया नन्दी के पैर पर पैर सटाये उनके माथे से टटका चढ़ाया बेलपत्र चबा रही थी। पर जब तक मैं कैमरा सेट करता वह उतरने की मुद्रा में आ चुकी थी! बेलपत्र? सुना है … पढना जारी रखे

Posted in आस-पास, धर्म, हास्य, Dharma, Humor, Surroundings | 30 टिप्पणियाँ

कॉज बेस्ड ब्लॉगिंग (Cause Based Blogging)


क्या करें, हिन्दी सेवा का कॉज लपक लें? पर समस्या यह है कि अबतक की आठ सौ से ज्यादा पोस्टों में अपनी लंगड़ी-लूली हिन्दी से काम चलाया है। तब अचानक हिन्दी सेवा कैसे कॉर्नर की जा सकती है? हिन्दू-मुस्लिम एकता … पढना जारी रखे

Posted in ब्लॉगरी, विविध, हास्य, हिन्दी, Blogging, Hindi, Humor, Varied | 41 टिप्पणियाँ

सतत युद्धक (Continuous Fighter)


छ सौ रुपल्ली में साल भर लड़ने वाला भर्ती कर रखा है मैने। कम्प्यूटर खुलता है और यह चालू कर देता है युद्ध। इसके पॉप अप मैसेजेज देख लगता है पूरी दुनियां जान की दुश्मन है मेरे कम्प्यूटर की। हर … पढना जारी रखे

Posted in तकनीकी, ब्लॉगरी, विविध, हास्य, Blogging, Humor, Techniques, Varied | 35 टिप्पणियाँ

बच्चों की परीक्षायें बनाम घर घर की कहानी


मार्च का महीना सबके लिये ही व्यस्तता की पराकाष्ठा है। वर्ष भर के सारे कार्य इन स्वधन्य 31 दिनों में अपनी निष्पत्ति पा जाते हैं। रेलवे के वाणिज्यिक लक्ष्यों की पूर्ति के लिये अपने सहयोगी अधिकारियों और कर्मचारियों का पूर्ण … पढना जारी रखे

Posted in आस-पास, प्रवीण पाण्डेय, शिक्षा, हास्य, Education, Humor, Praveen Pandey, Surroundings | 25 टिप्पणियाँ

नत्तू पांड़े, नत्तू पांड़े कहां गये थे?


नत्तू पांड़े नत्तू पांड़े कहां गये थे? झूले में अपने सो रहे थे सपना खराब आया रो पड़े थे मम्मी ने हाल पूछा हंस गये थे पापा के कहने पे बोल पड़े थे संजय ने हाथ पकड़ा डर गये थे … पढना जारी रखे

Posted in नत्तू पांडे, रीता, हास्य, Humor, Nattu Pandey, Rita | 26 टिप्पणियाँ